Skip to content
माँ का तोहफा

माँ का तोहफा


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

एक दंपत्ती दिवाली की खरीदारी करने को हड़बड़ी में था। ‘जल्दी करो मेरे पास टाईम नहीं है’, कह कर रूम से बाहर निकल गया सूरज… Read More »माँ का तोहफा

एक बच्चा जब गुरु बना

एक बच्चा जब गुरु बना – (ज्ञान का प्याला)


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

एक सिद्ध महान् संत समुद्र तट पर टहल रहे थे। समुद्र के तट पर एक बच्चे को रोते हुए देखकर पास आकर प्यार से बच्चे… Read More »एक बच्चा जब गुरु बना – (ज्ञान का प्याला)

एक दोहे का प्रभाव

एक दोहे का प्रभाव


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

एक राजा को राज भोगते हुए काफी समय हो गया था। बाल भी सफ़ेद होने लगे थे। एक दिन उसने अपने दरबार में उत्सव रखा… Read More »एक दोहे का प्रभाव

छोटे से मंत्र का जप करने से क्या होगा?

छोटे से मंत्र का जप करने से क्या होगा?


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

बात उस समय की है जब पद्मविभूषण से सम्मानित पंडित गोपीनाथ कविराज अपने गुरुदेव स्वामी विशुद्धानंद जी के आश्रम में रहकर सेवा-साधना कर रहे थे।… Read More »छोटे से मंत्र का जप करने से क्या होगा?

प्रेम की पराकाष्ठा

प्रेम की पराकाष्ठा


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

वे लोग पिछले कई दिनों से इस जगह पर खाना बाँट रहे थे। हैरानी की बात ये थी कि एक कुत्ता हर रोज आता था… Read More »प्रेम की पराकाष्ठा

संगति, परिवेश और भाव

संगति, परिवेश और भाव


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

एक राजा अपनी प्रजा का भरपूर ख्याल रखता था। राज्य में अचानक चोरी की शिकायतें बहुत आने लगीं, कोशिश करने से भी चोर पकड़ा नहीं… Read More »संगति, परिवेश और भाव

शिक्षाप्रद लघु दृष्टांत

शिक्षाप्रद लघु दृष्टांत


Warning: Attempt to read property "roles" on bool in /home/lifeaqqv/sanrachhan.com/wp-content/plugins/wp-user-frontend/wpuf-functions.php on line 4663

एक बार की बात है एक बहुत ही पुण्यात्मा व्यक्ति अपने परिवार सहित तीर्थ के लिए निकले। कई कोस दूर जाने के बाद पूरे परिवार… Read More »शिक्षाप्रद लघु दृष्टांत